मन के मोती

कुछ जज्बात जो की कहे नही जाते ,, जिनके बारे में हम सोचते हैं कि वो सिर्फ मेरे साथ है लेकिन वास्तव में सभी उससे खुद को जुड़ा पाते हैं

26 Posts

2319 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 5460 postid : 796461

लव जिहाद : धार्मिक नजरिये से देखना कहीं खुद को मूर्ख बनाने की कोशिश तो नही

Posted On: 25 Oct, 2014 social issues,Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज कल सामाजिक समस्यायों में से लव जिहाद का भी जिक्र करना आवश्यक है ! और शायद ये हमेशा से अस्तित्व में रहा है , किन्तु आज इस मुद्दे का राजनीतिकरण हुआ है सो इस मुद्दे ने सबका ध्यान अपनी ओर खींचा है ! एक राष्ट्रीय खिलाडी ने आरोप लगाया कि दूसरे धर्म के एक युवक ने अपना नाम बदल कर उसे अपने प्रेम- जाल में फंसाया , तत्पश्चात उसे अपना धर्म परिवर्तन के लिए विवश किया ! इस घटना के प्रमुख समाचार पत्रो में छपने के बाद ऐसी ही अन्य तमाम घटनाएँ सुर्ख़ियों में छायी रहीं ! एक विशेष राजनीतिक दल एवं कुछ हिन्दू संघटनों ने तो मुग़ल बादशाह अकबर से ही इस कु-प्रथा कि शुरुवात का आरोप लगाया तो कुछ ने अलाउद्दीन ख़िलजी से ! पाकिस्तान एवं कुछ अन्य देशों में हाल में ही ऐसी घटनाएँ हुई हैं जिनसे इस बात की पुष्टि होती है कि हिन्दू संघटनो का विरोध अकारण ही नही है !
प्रेम को भी धर्म के प्रचार -प्रसार का साधन बनाना अत्यंत निंदनीय है ! इसका कड़े स्वर में विरोध करना आवश्यक है ! ऐसा करते वक़्त किसी को राजनीती से नही करनी चाहिए ! किन्तु ये इतना सामान्य नही है ! ये एक व्यापक मुद्दा है सिर्फ धार्मिक नजरिये से देखना गलत होगा ! हमे इन प्रेम -सम्बन्धो पर एक गहन एवं व्यापक दृष्टि से विचार करना होगा ! क्या एक ही धर्म के लोगों के बीच हो रहे प्रेम-समबन्धों में विश्वासघात नही होता है !
क्या समान धर्म के व्यक्ति आपस में प्रेम करके दूसरे के जीवन को बर्बाद नही कर देते हैं ? इस प्रश्नो की रोशनी में भी इस मुद्दे को लाना होगा ! तभी हम दूसरे लोगों को इस झूठे प्रेम-पाश से बचा सकते हैं ! महज दस या बीस घटनाओ के आधार पर हम इसे धार्मिक दृष्टि से जोड़कर नही बच सकते हैं ,, बल्कि हमे हजारों -लाखों व्यक्तियों को भी ध्यान में रखना होगा जिनकी जिंदगी झूठे प्रेम -संबधों ने खराब कर दी ! इसके लिए हमे एक पहल की
आवश्यकता है ! वर्तमान युग तकनीक का है जहाँ पर लोग आसानी से दूसरे व्यक्ति के प्रेम- पाश में फंस सकते हैं ! हमें ये भी ध्यान में रखना होगा कि कहीं लव- जिहाद का मुद्दा उन लोगो को समाज में विद्वेष फ़ैलाने का मौका न दे जो धार्मिक रूप से उन्मादी है और इसका एकमात्र उपाय है कि हमे लव-जिहाद को रोकना होगा ,, इसके लिए कड़े कानून बनाने होंगे ! और जो लोग इसके विरोध के लिए आंदोलन चला रहे हैं उन्हें जरुरी सहयोग दिया जाए !
अभिभावकों को विशेष रूप से माँ को अपने बच्चे के हर क्रियाकलाप पर पैनी निगाह डालनी होगी ! तकनीक के प्रयोग से हम किसी को रोक नही सकते हैं , किन्तु हम उन्हें देख सकते हैं उन्हें शांति से समझा सकते हैं ! किशोर -वय छात्राओं एवं लड़कियों को विशेष रूप से सचेत करने कि आवश्यकता है ! किसी भी ऐसे युवक से प्रभावित न हों जो आकर्षक दीखता हो ,, जिससे कोई परिचय न हो ! उन्हें इसके दुष्परिणाम के विषय में अवगत कराया जाए !
ऐसी संस्थाओ को चिह्नित किया जाए जो अपने निहित स्वार्थों के वशीभूत हो ऐसे युवको को लव-जिहाद के लिए प्रेरित करते हों !
सरकार के स्तर पर कड़े कानूनो का प्रावधान हो , और कोई उसका दुरुपयोग न कर सके इसका भी ध्यान रखा जाए !
आईये हम भी पहल करते हैं ! एक संस्था से जुड़ते हैं जो इस क्षेत्र में कार्यरत हो ! जो ये सुनिश्चित करे कि कोई भी इसके दुष्चक्र में न पड़े और जो फंस गए हैं इस दलदल में उन्हें निकाला जाए !
सबसे प्रमुख बात लव-जिहाद को धार्मिक दृष्टि से देखना सही नही है ! इसे इस्लाम के प्रचार का महज तरीका मानना अपनी आँखों में धूल झोंकने के समान है ! लव-जिहाद शब्द तो ठीक है मतलब प्रेम को गलत तरीके से प्रयुक्त करना ! किन्तु वास्तविकता तो ये है कि इसका प्रयोग सिर्फ इस्लाम धर्म के युवक ही कर रहे हैं ! हर धर्म के नवयुवक इसमें लिप्त हैं ! वो स्वार्थ के वशीभूत हो प्रेम के जाल में फंसा कर दूसरों का जीवन बर्बाद कर देते हैं ! और अब तो बदली सामजिक परिस्थितियों में लडकिया भी पीछे नही हैं ! अतः कही लव -जिहाद के चक्कर में धार्मिक वैमनस्य न बढे इसका भी ध्यान रखा जाये ! जय हिन्द जय भारत !



Tags:       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

289 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran